कोऑपरेटिव बैंक में एक करोड़ 87 लाख का घोटाला

पुन्हाना उपमंडल के जमालगढ़ गांव के कॉपरेटिव बैंक में करीब 2 करोड़ रुपये का घोटाला किया गया। बैक के प्रबंधक द्वारा अपने नजदीकियों के साथ मिलकर करीब 1 करोड 87 लाख रुपये विभिन्न खातों में डालकर बैंक को चूना लगाया है। सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंक के जनरल मैनेजर रामबीर यादव की शिकायत पर पुन्हाना पुलिस ने दर्जन भर लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।

पुलिस को दी शिकायत में कोऑपरेटिव बैंक के जनरल मैनेजर रामवीर यादव ने बताया बैक द्वारा मुस्ताक अहमद को जनवरी 2007 में बैंक में सैक्रेटरी नियुक्त किया गया था। वर्ष 2009 में मुस्ताक को जमालगढ़ गांव की ब्रांच में लगाया गया। इसके बाद उसे इसी ब्रांच में पैक्स प्रबंधक के तौर पर नियुक्त किया गया। शिकायत में बताया कि 20 मार्च को बैंक के फंड में अनियमतिायें बरतने के आरोप में बोर्ड ऑफ डायरेक्टर ने प्रबंधक मुस्ताक को सस्पैंड कर दिया था।  पुलिस को दी शिकायत में जनरल मैनेजर ने बताया कि फंड में अनियमतिाओं के आरोप के बाद वर्ष 2019 में 5 सदस्यों की कमेटी बनाई गई।

कमेटी की जांच में बैंक के खातों में भारी अनियमतिाएं मिली। अनुमान लगाया गया कि बैंक में करीब एक करोड़ 81 लाख 70 हजार 747 रुपये नियमों के विरुद्ध अपने नजदीकी व्यक्तियों से साज बाज होकर विभिन्न खातों में ट्रासंफर किये गये। इसके लिये बैँक का प्रबंधक मुस्ताक अहमद पूरी तरह जिम्मेवार है।  बैंक के जनरल मैनेजर ने शिकायत में बताया  कि कमेटी की जांच में बैंक से खातों के वॉउचर गायब मिले इसके अलावा प्रबंधक मुस्ताक  ने कमेटी के सामने गायब हुये वॉउचरों को पेश नहीं किया। आरोप है कि बैंक का पूरा रिकार्ड अभी भी  मुस्ताक के कब्जे में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *