इंडियन प्रीमियर लीग : यूएई की पिचों पर खेलना क्यों चुनौतीपूर्ण होगा?

दिल्ली कैपिटल्स के ऑलराउंडर हर्षल पटेल ने कहा है कि इंडियन प्रीमियर लीग के आगामी सत्र में तटस्थ स्थलों पर खेलने से टीमों को घरेलू हालात में खेलने का फायदा उठाने का मौका नहीं मिलेगा और विभिन्न स्थलों की विभिन्न पिचों से लगातार सामंजस्य बैठाना टीमों के लिए चुनौतीपूर्ण होगा|

करोना वायरस संक्रमण के बढ़त मामलों के कारण दुनिया की सबसे बड़ी टी20 लीग का आयोजन इस बार यूएई में तीन स्थलों दुबई, अधु धाबी और शारजाह में होगा| पटेल ने कहा, ‘मुझे लगता है कि प्रत्येक स्थिति के अपने फायदे और नुकसान होते हैं. तटस्थ स्थलों पर खेलने से निश्चित तौर पर घरेलू मैदान पर खेलने का फायदा नहीं मिलेगा इसलिए यह टीमों के लिए चुनौतीपूर्ण होगा क्योंकि आप एक तरह के विकेट पर निर्भर नहीं रह सकते|’

इस ऑलराउंडर ने कहा कि टीमों के पास पिचों को अपने मजबूत पक्षों के अनुसार तैयार करने का मौका नहीं होगा| उन्होंने कहा, ‘हमने अतीत में देखा है कि अगर टीमों के पास अच्छे स्पिनर हैं तो वे स्पिन की अनुकूल पिचें तैयार करने को प्राथमिकता देते हैं और इससे वे स्पिनरों का इस्तेमाल करके जीत दर्ज कर सकते हैं|’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *